Saturday 23 October 2021, 10:58 AM
उपयोगकतार्ओं को पायरेटेड वेबसाइट ब्राउज करने से रोकने वाला एक मैलवेयर
By आईएएनएस | Bharat Defence Kavach | Publish Date: 6/22/2021 12:39:57 PM
उपयोगकतार्ओं को पायरेटेड वेबसाइट ब्राउज करने से रोकने वाला एक मैलवेयर

नई दिल्ली: साइबर सुरक्षा शोधकतार्ओं ने मैलवेयर के एक दिलचस्प पीस की खोज की है जो पासवर्ड चोरी करने या फिरौती के लिए कंप्यूटर मालिक से उगाही करने के बजाय, संक्रमित उपयोगकतार्ओं के कंप्यूटर को सॉफ्टवेयर चोरी के लिए समर्पित बड़ी संख्या में वेबसाइटों पर जाने से रोकता है। हालांकि, ये मैलवेयर संदिग्ध प्रतीत होता है। अगली जनरेशन की साइबर सुरक्षा में अग्रणी वैश्विक नेता सोफोस से जुड़े शोधकतार्ओं ने एक जिज्ञासु साइबर हमले अभियान का विस्तार किया है जो पायरेटेड सॉ़फ्टवेयर के उपयोगकतार्ओं को पायरेटेड सॉ़फ्टवेयर होस्ट करने वाली वेबसाइटों तक पहुंच को अवरुद्ध करने के लिए डिजाइन किए गए जो मैलवेयर के साथ टारगेट करता है।

डेवलपर्स मैलवेयर को लोकप्रिय ऑनलाइन गेम जैसे कि माईनक्रॉफ्ट और हमारे बीच, साथ ही माईक्रोसॉफ्ट, सुरक्षा सॉ़फ्टवेयर और अन्य उत्पादकता टूल के क्रैक किए गए संस्करणों के रूप में छिपाते हैं। प्रच्छन्न मैलवेयर को 'दपाईरेटबे' डिजिटल फाइल शेयरिंग वेबसाइट पर होस्ट किए गए खाते से बिटटोरेंट प्लेटफॉर्म के माध्यम से वितरित किया जाता है।

शोधकतार्ओं ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा, "मैलवेयर के लिंक डिस्कॉर्ड पर भी होस्ट किए जाते हैं। एक बार इंस्टॉल हो जाने पर, मैलवेयर पीड़ितों की वेबसाइटों की एक लंबी सूची तक पहुंच को अवरुद्ध कर देता है, जिसमें पायरेटेड सॉ़फ्टवेयर वितरित करने वाली कई वेबसाइटें भी शामिल हैं।" शोधकर्ता इस मैलवेयर की उत्पति का स्त्रोत पता लगाने में कामयाब नहीं हुए।

उन्होंने समझाया "लेकिन इसकी प्रेरणा बहुत स्पष्ट लग रही थी। यह लोगों को सॉ़फ्टवेयर पायरेसी वेबसाइटों (यदि केवल अस्थायी रूप से) पर जाने से रोकता है और पायरेटेड सॉ़फ्टवेयर का नाम भेजता है जिसे उपयोगकर्ता एक वेबसाइट पर उपयोग करने की उम्मीद कर रहा था।"

सोफोस के प्रमुख खतरे के शोधकर्ता एंड्रयू ब्रांट ने कहा: "कभी-कभी यह स्पष्ट रूप से देखना आसान होता है कि एक विरोधी का अंतिम खेल क्या है और उन्होंने इसे हासिल करने के लिए एक विशेष ²ष्टिकोण क्यों चुना है। यह उन समयों में से एक नहीं है।"

इसके चेहरे पर, विरोधी के लक्ष्य और उपकरण बताते हैं कि यह किसी प्रकार का एंटी-पायरेसी विजिलेंस ऑपरेशन हो सकता है।कम से कम कुछ मैलवेयर, विभिन्न प्रकार के सॉ़फ्टवेयर पैकेजों की पायरेटेड प्रतियों के रूप में प्रच्छन्न, गेम चैट सेवा डिस्कॉर्ड पर होस्ट किए गए थे।

बिटटोरेंट के माध्यम से वितरित की गई अन्य प्रतियों का नाम भी लोकप्रिय खेलों, उत्पादकता उपकरणों और यहां तक कि सुरक्षा उत्पादों के नाम पर रखा गया था, साथ ही अतिरिक्त फाइलें भी, जिससे यह प्रतीत होता है कि यह पाइरेटबे पर एक मशहूर फाइल साझाकरण खाते से आई है।

इस मैलवेयर के मामले में, हमलावर एक संक्रमित डिवाइस पर होस्ट फाइल सेटिंग्स को संशोधित करने के लिए वेबसाइटों की एक लंबी सूची को 'लोकलहोस्ट' करने के लिए एक पुराने ²ष्टिकोण का उपयोग करते हैं, जिससे उपयोगकर्ता की उन तक पहुंच अवरुद्ध हो जाती है।

दुर्भावनापूर्ण फाइलें 64-बिट विंडोज 10 के लिए संकलित की जाती हैं और फिर फर्जी डिजिटल प्रमाणपत्रों के साथ हस्ताक्षरित होती हैं, जो बहुत ही प्राथमिक जांच से अधिक नहीं होती हैं।

Tags:

साइबर सुरक्षा,शोधकतार्ओं,मैलवेयर,पासवर्ड,संक्रमित,उपयोगकतार्ओं,कंप्यूटर,सॉफ्टवेयर,

DEFENCE MONITOR

भारत डिफेंस कवच की नई हिन्दी पत्रिका ‘डिफेंस मॉनिटर’ का ताजा अंक ऊपर दर्शाया गया है। इसके पहले दस पन्ने आप मुफ्त देख सकते हैं। पूरी पत्रिका पढ़ने के लिए कुछ राशि का भुगतान करना होता है। पुराने अंक आप पूरी तरह फ्री पढ़ सकते हैं। पत्रिका के अंकों पर क्लिक करें और देखें। -संपादक

Contact Us: 011-66051627

E-mail: [email protected]

SIGN UP FOR OUR NEWSLETTER
NEWS & SPECIAL INSIDE !
Copyright 2018 Bharat Defence Kavach. All Rights Resevered.
Designed by : 4C Plus