Friday 22 October 2021, 06:49 AM
भारत 2030 तक 23 जलमार्ग शुरू करेगा : पीएम
By आईएएनएस | Bharat Defence Kavach | Publish Date: 3/2/2021 3:24:52 PM
भारत 2030 तक 23 जलमार्ग शुरू करेगा : पीएम

नई दिल्ली: दुनिया को भारत आने और देश के विकास का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित करते हुए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को घोषणा की है कि भारत का लक्ष्य 2030 तक 23 जलमार्गो का संचालन करना है। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि भारत समुद्री क्षेत्र में बढ़ने और दुनिया की अग्रणी ब्लू इकॉनमी के रूप में उभरने के बारे में बहुत गंभीर है।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 'मैरीटाइम इंडिया समिट 2021' के अवसर पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि बुनियादी ढांचे के उन्नयन के फोकस क्षेत्रों के माध्यम से, समुद्री क्षेत्र में यात्रा सुधार को बढ़ावा देकर, भारत का उद्देश्य 'आत्माननिर्भर भारत' के विजन को मजबूत करना है।

मोदी ने कहा कि "हमारी सरकार एक ऐसी सरकार है जो जलमार्ग में इस तरह से निवेश कर रही है जो पहले कभी नहीं देखा गया।" उन्होंने कहा, "घरेलू जलमार्ग माल ढुलाई के लिए प्रभावी और पर्यावरण के अनुकूल तरीके हैं। हम 2030 तक 23 जलमार्गों का संचालन करना चाहते हैं।"

प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रमुख बंदरगाहों की क्षमता 2014 के 87 करोड़ टन के मुकाबले बढ़कर अब 155 करोड़ टन हो गई है।

भारतीय बंदरगाहों में अब आसान डेटा फ्लो के लिए सीधे पोर्ट डिलीवरी, सीधे बंदरगाह पर प्रवेश और एक अपग्रेडेड पोर्ट कम्युनिटी सिस्टम (पीसीएस) है। हमारे बंदरगाहों ने इनबाउंड और आउटबाउंड कार्गो के लिए प्रतीक्षा समय कम कर दिया है।

मोदी ने यह भी बताया कि गुजरात के कांडला में वधावन, पारादीप और दीनदयाल बंदरगाह पर विश्व स्तरीय बुनियादी ढांचे के साथ मेगा पोर्ट विकसित किए जा रहे हैं।उन्होंने आगे बताया कि भारत के विशाल तट रेखा पर 189 लाइटहाउस हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा, "हमने 78 लाइटहाउस से सटे भूमि में पर्यटन के विकास के लिए एक कार्यक्रम तैयार किया है। इस पहल का मुख्य उद्देश्य मौजूदा लाइटहाउस और इसके आसपास के क्षेत्रों को अद्वितीय समुद्री पर्यटन स्थलों में विकसित करना है।"

प्रधानमंत्री ने घोषणा की है कि कोच्चि, मुंबई, गुजरात और गोवा जैसे प्रमुख राज्यों और शहरों में शहरी जल परिवहन प्रणालियों को शुरू करने के लिए भी कदम उठाए जा रहे हैं।उन्होंने कहा कि सरकार ने हाल ही में जहाजरानी मंत्रालय को बंदरगाहों, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्रालय के रूप में बदलकर समुद्री क्षेत्र का विस्तार किया है ताकि काम समग्र तरीके से हो।

उन्होंने कहा कि सरकार घरेलू शिप बिल्डिंग और शिप रिपेयर मार्केट पर भी ध्यान दे रही है। घरेलू शिपबिल्डिंग को प्रोत्साहित करने के लिए भारतीय शिपयार्ड के लिए शिपबिल्डिंग फाइनेंशियल असिस्टेंस पॉलिसी को मंजूरी दी गई है।

मोदी ने बताया कि पोर्ट शिपिंग और जलमार्ग मंत्रालय ने 400 निवेश योग्य परियोजनाओं की एक सूची बनाई है। इन परियोजनाओं में 31 अरब या 2.25 लाख करोड़ रुपये की निवेश क्षमता है।उन्होंने मैरीटाइम इंडिया विजन 2030 के बारे में बात करते हुए कहा कि यह सरकार की प्राथमिकताओं को रेखांकित करता है।

बिम्सटेक और आईओआर देशों के साथ व्यापार और आर्थिक संबंधों पर भारत के फोकस के साथ, प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत की योजना 2026 तक बुनियादी ढांचे में निवेश बढ़ाने और आपसी समझौतों को सुविधाजनक बनाने की है।

उन्होंने कहा कि सरकार पूरे देश के सभी प्रमुख बंदरगाहों पर सौर और पवन-आधारित बिजली प्रणाली स्थापित करने की प्रक्रिया में है और इसका लक्ष्य 2030 तक कुल ऊर्जा का 60 प्रतिशत से अधिक नवीकरणीय ऊर्जा का उपयोग भारतीय बंदरगाहों पर तीन चरणों में बढ़ाना है।

मोदी ने वैश्विक निवेशकों से कहा, कि भारत की लंबी तटरेखा आपका इंतजार कर रही है। भारत के मेहनती लोग आपकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। हमारे बंदरगाहों में निवेश करें। हमारे लोगों में निवेश करें। भारत को व्यापार एवं वाणिज्य के लिए अपना पसंदीदा व्यापार स्थल बनने दें।

Tags:

दुनिया,भारत,विकास,हिस्सा,प्रधानमंत्री मोदी,लक्ष्य,23 जलमार्गो,संचालन,

DEFENCE MONITOR

भारत डिफेंस कवच की नई हिन्दी पत्रिका ‘डिफेंस मॉनिटर’ का ताजा अंक ऊपर दर्शाया गया है। इसके पहले दस पन्ने आप मुफ्त देख सकते हैं। पूरी पत्रिका पढ़ने के लिए कुछ राशि का भुगतान करना होता है। पुराने अंक आप पूरी तरह फ्री पढ़ सकते हैं। पत्रिका के अंकों पर क्लिक करें और देखें। -संपादक

Contact Us: 011-66051627

E-mail: [email protected]

SIGN UP FOR OUR NEWSLETTER
NEWS & SPECIAL INSIDE !
Copyright 2018 Bharat Defence Kavach. All Rights Resevered.
Designed by : 4C Plus