Sunday 24 October 2021, 11:28 PM
थालेस: भारत के विकास का एक मजबूत साथी
By इमेनुअल द रॉक्फी, वाइस प्रेसिडेंट और कंट्री डायरेक्‍टर, थालेस इंडिया | Bharat Defence Kavach | Publish Date: 1/30/2021 6:53:47 PM
थालेस: भारत के विकास का एक मजबूत साथी
इमेनुअल द रॉक्फी, वाइस प्रेसिडेंट और कंट्री डायरेक्‍टर, थालेस इंडिया

भारत अपने लक्ष्‍य आत्‍मनिर्भर भारत की दिशा में आगे बढ़ते हुए, अपने साथ मिलकर काम करने और औद्योगिक पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत करने के लिए रक्षा और एयरोस्‍पेस सहित अन्‍य क्षेत्रों में स्‍थानीय एवं वैश्विक संगठनों के लिए अपार अवसर के दरवाजे खोल रहा है।

रक्षा, एयरोस्‍पेस, ट्रांसपोर्टेशन और डिजिटल आइडेंटिटी एवं सिक्‍यूरिटी जैसे विविध क्षेत्रों में अपनी मजबूत उपस्थिति द्वारा समर्थित थालेस भारत की महत्‍वाकांक्षी योजनाओं और विकास में अपनी विशिष्‍ट तकनीकों और विशेषज्ञता को साझा करने के जरिये एक अटूट भागीदार रहा है। थालेस का उद्देश्‍य एक ऐसे भविष्‍य का निर्माण करना है जिस पर हम भरोसा कर सकते हैं। थालेस अपने उपभोक्‍ताओं के साथ मिलकर काम कर रही है और सर्वोत्‍तम संभव समाधानों के साथ उनकी आवश्यकताओं को पूरा करने का प्रयास कर रही है। हाल ही में, थालेस ने एक बड़ा और पहले से भी अधिक स्मार्ट, भारत में अपना नया मुख्‍यालय स्‍थापित किया है, जो अपनी डिजिटल आइडेंटिटी एवं सिक्‍यूरिटी बिजनेस के लिए समर्पित एक बड़ा इंजीनियरिंग कॉम्पिटेंस सेंटर भी है।

 

यह मुख्‍यालय उत्‍तर प्रदेश के नोएडा में स्थित है। यह नया ऑफिस भारत में थालेस  के लिए एक महत्‍वपूर्ण मील का पत्थर है और भारत देश में थालेस  समूह की दीर्घकालिक प्रतिबद्धता का प्रतीक है। यह नया ऑफिस यह भी दर्शाता है कि थालेस  कैसे यहां विकास कर रही है और अधिक स्‍थानीय बन रही है।

देश में लगभग 70 साल की अपनी यात्रा में, थालेस  ने भारत इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स लिमिटेड (BEL) के साथ रडार के लिए, Samtel के साथ सैन्‍य हवाई जहाज के लिए और रिलायंस एयरोस्‍ट्रक्‍चर लिमिटेड के साथ इलेक्‍ट्रॉनिक वारफयेर और एयरबोर्न रडार के लिए बनाए गए संयुक्‍त उद्यमों के साथ ही साथ 75 से अधिक सप्‍लाई चेन पार्टनर्स और अन्‍य औद्योगिक भागीदारों के साथ एक परिपक्‍व औद्योगिक पहचान बनाई है। कंपनी पिछले पांच दशकों से हिंदुस्‍तान एयरोनॉटिक्‍स लिमिटेड (HAL) के साथ भी मिलकर काम कर रही है।

 

थालेस राफेल इंडिया टीम का एक सदस्‍य है। थालेस ने भारतीय वायु सेना, भारतीय जल सेना और भारतीय सेना के प्रमुख कार्यक्रमों के अलावा HAL के साथ काम करते हुए Dassault एविएशन के साथ मिलकर मिराज 2000 अपग्रेड कार्यक्रम को भी सफलतापूर्वक अंजाम दिया है। थालेस  निरंतर अपनी नवीनतम प्रौद्योगियों को ला रही है, जो भारतीय सशस्त्र बलों के आधुनिकीकरण आवश्यकताओं को पूरा करती हैं।

 

थालेस डिजिटल क्रांति की संभावना और सामाजिक प्रभाव को अच्‍छी तरह से समझती है, जिसका सामना दुनिया अभी कर रही है। कंपनी ने कनेक्टिविटी, बिग डाटा, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और साइबर सिक्‍यूरिटी जैसे डिजिटल इन्‍नोवेशन में वैश्विक स्‍तर पर 7 अरब यूरो से अधिक का निवेश किया है। यह  प्रौद्योगिकियां थालेस  के परिचालन वाले सभी विभिन्‍न क्षेत्रों में व्‍यवसायों और संगठनों के साथ ही साथ सरकारों को उनके निर्णायक क्षणों में अपना सहयोग दे रही हैं।

 

अनुसंधान और विकास से प्रेरित इन्‍नोवेशन थालेस  के लिए प्रमुख है। राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र और बैंगलुरु में स्थित इसके इंजीनियरिंग कॉम्पिटेंस केंद्रों (ECC) का भारतीय शैक्षणिक संस्‍थाओं के साथ गठजोड़ इसका ही परिचायक है। बैंगलुरु ECC रक्षा, एयरोस्‍पेस और ट्रांसपोर्टेशन पर केंद्रित है। नोएडा और गुरुग्राम स्थित केंद्र साइबर सुरक्षा, IoT, बायोमेट्रिक के साथ-साथ बिग डाटा एनालिटिक्‍स सॉल्‍युशंस सहित डिजिटल आइडेंटिटी और सिक्‍यूरिटी पर केंद्रित है।

 

इन्‍नोवेशन और सह-निर्माण में अग्रणी, थालेस  प्रतिभाशाली इंजीनियरों की अगली पीढ़ी को तैयार करने के लिए पूरी तरह समर्पित है। कंपनी का अपने ग्राहकों की महत्‍वाकांक्षाओं को समर्थन जारी रखने का एक दृढ़ संकल्‍प है, क्‍योंकि वह वर्तमान में कल के भारत को सुनहरे भविष्‍य की ओर ले जाने का काम करते हैं।

 

भविष्य में, थालेस स्‍थानीय इंजीनियरिंग, भारत से खरीद और अपनी स्‍थानीय भागीदारी को मजबूत करने के लिए अपनी क्षमताओं का विकास जारी रखेगी। भारतीय उद्योग के साथ सहयोग का निर्माण करना और देश को रक्षा विनिर्माण के केंद्र में बदलना थालेस, की भारत के लिए पहली प्राथमिकता रहेगी।

 

एयरो इंडिया 2021 के लिए योजना

एयरो इंडिया 2021 में अपनी प्रतिभागिता को लेकर थालेस काफी उत्‍साहित है। यह शो थालेस को अपनी प्रमुख क्षमताओं को प्रदर्शित करने का अवसर प्रदान करता है, जो देश के रक्षा बलों के आधुनिकीकरण की योजनाओं का समर्थन करती हैं। इस वर्ष, थालेस का सारा ध्‍यान अपनी ‘मेक इन इंडियाप्रतिबद्धता और स्‍थानीय भागीदारी और डिजाइन एवं विकास के माध्‍यम से आत्‍मनिर्भर भारतके निर्माण में योगदान पर होगा। थालेस  स्‍टैंड में आने वाले दर्शक पहली बार भारत में इसके नवीनतम हवाई निगरानी रडार एयरमास्‍टर सी’ सहित नागरिक और रक्षा एयरस्‍पेस के साथ-साथ थल और नौसेना के लिए अत्‍याधुनिक प्रौद्योगिकियों को देख सकेंगे

 

Tags:

भारत,लक्ष्‍य,आत्‍मनिर्भर,भारत,औद्योगिक,पारिस्थितिकी,मजबूत,एयरोस्‍पेस,

DEFENCE MONITOR

भारत डिफेंस कवच की नई हिन्दी पत्रिका ‘डिफेंस मॉनिटर’ का ताजा अंक ऊपर दर्शाया गया है। इसके पहले दस पन्ने आप मुफ्त देख सकते हैं। पूरी पत्रिका पढ़ने के लिए कुछ राशि का भुगतान करना होता है। पुराने अंक आप पूरी तरह फ्री पढ़ सकते हैं। पत्रिका के अंकों पर क्लिक करें और देखें। -संपादक

Contact Us: 011-66051627

E-mail: [email protected]

SIGN UP FOR OUR NEWSLETTER
NEWS & SPECIAL INSIDE !
Copyright 2018 Bharat Defence Kavach. All Rights Resevered.
Designed by : 4C Plus