Friday 15 November 2019, 05:12 AM
कॉमेडी में द्विअर्थी शब्द न कभी बोला है न बोलूंगा : असरानी
By विभा वर्मा | Bharat Defence Kavach | Publish Date: 9/17/2018 3:49:30 PM
कॉमेडी में द्विअर्थी शब्द न कभी बोला है न बोलूंगा : असरानी

नई दिल्ली: दर्शकों को हंसाने-गुदगुदाने के लिए मशहूर अभिनेता असरानी का असली नाम गोवर्धन ठाकुरदास जेठानंद असरानी है। उनका कहना है कि वह हमेशा से साफ-सुथरी कॉमेडी का हिस्सा रहे हैं और रहेंगे। न तो कभी द्विअर्थी संवाद बोले हैं और न कभी बोलेंगे। 

अभिनेता ने 'गुड्डी', 'बावर्ची', 'अभिमान', 'शोले', 'यमला पगला दीवाना : फिर से' जैसी फिल्मों में काम किया है। फिल्म 'शोले' में उनके द्वारा बोले गए संवाद 'हम अंग्रेजों के जमाने के जेलर हैं' को आज भी लोग याद करते हैं। 

अपने नाटक 'मक्खीचूस' के मंचन के सिलसिले में नोएडा आए अभिनेता ने रंगमंच से जुड़ने के बारे में आईएएनएस से कहा, "देखिए, मैं फिल्म इंस्टीट्यूट (फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, पुणे) से हूं और एक्टिंग का डिप्लोमा किया हुआ है, तो वहां पर कोर्स में स्टेजप्ले करना कंपल्सरी था। ट्रेनिंग का पार्ट था वह। जब आप स्टेज पर प्ले करते हैं तो दर्शक सामने बैठा होता है। आमने-सामने मुलाकात होती है।

फिल्म में अभिनय करते समय सामने सिर्फ कैमरा होता है, तो आपको पता नहीं चलता कि दर्शक क्या रिएक्शन कर रहे हैं, वे तो हमको देख सकते हैं, लेकिन हम उनको देख नहीं सकते। स्टेजप्ले में तो हम आमने-सामने बैठते हैं, रूबरू होते हैं। हम देख सकते हैं कि देखने वाले क्या रिएक्शन कर रहे हैं और उसके मुताबिक एक्टर खुद रिएक्ट करता है, उससे हमको पता लग जाता है कि हम सही कर रहे हैं कि नहीं कर रहे हैं। अगर गलत कर रहे हैं तो फौरन उसी वक्त उसको दुरुस्त करके फिर से सामने आते हैं।" 

आजकल कॉमेडी शोज में द्विअर्थी शब्दों वाले संवादों का प्रयोग करने का चलन बढ़ता जा रहा है, यह बात छेड़ने पर असरानी (70) ने आईएएनएस से कहा, "देखिए, हम जो ये नाटक (मक्खीचूस) कर रहे हैं, इसमें कोई द्विअर्थी शब्द या संवाद नहीं है। अगर आपने मेरी शुरुआती फिल्में देखी हों तो उसमें भी हमने ऐसा कुछ नहीं किया है। हमने न कभी डबल मीनिंग वाले शब्दों का प्रयोग किया है और न कभी करेंगे। जो लोग करते हैं, उनसे हमें कोई मतलब नहीं है।"

यह पूछे जाने पर कि क्या दर्शकों के सामने अभिनय करने पर वह कोई दबाव महसूस करते हैं? उन्होंने कहा, "बिल्कुल होता है, पहले जब हम नया स्टेजप्ले शुरू करते हैं तो उस वक्त तो होता ही है कि..भाई किस तरह के दर्शक आए हुए हैं। मगर जब हम बार-बार करते हैं, तो हमको मालूम पड़ता है कि दर्शक कहां-कहां पर रिएक्शन करेंगे। अब हमारा ये 12वां शो है।"

'मक्खीचूस' की कहानी फ्रांसीसी नाटककार मॉलियर की 'द माइजर' पर आधारित है। 'द माइजर' नाटक का सबसे पहले मंचन सन् 1668 में हुआ था। इसके हिंदी रूपातंरण का नाम 'मक्खीचूस' प्रणव और ईशान जो प्रोड्यूसर और डायेरक्टर हैं, ने रखा है। हास्य से भरपूर इस नाटक में असरानी एक विधुर (टोपन लाल) की भूमिका में हैं जो बेहद कंजूस है और अपने बेटे की प्रेमिका से शादी करने की कोशिश में लगा रहता है।

नाटक में अपने किरदार के बारे में असरानी ने कहा, "इसमें मेरा मुख्य किरदार है। मैं ही मक्खीचूस का रोल कर रहा हूं और इसमें एक बड़ा अच्छा संदेश है, वह संदेश है..चूंकि वह कंजूस है, तो वह अपने बेटे से भी, अपनी बेटी से भी, नौकर से और दूसरे लोगों से भी बिल्कुल ऐसा व्यवहार करता है कि कोई उसके पैसों का फायदा न उठा पाए। अपने बेटे को, बेटी को सबको डांटता रहता है कि पैसे क्यों खर्च करते हो और बाद में महसूस करता है कि लाइफ में सिर्फ पैसा ही सबकुछ नहीं है। पैसे के अलावा भी रिश्ते, प्यार, मोहब्बत ये सब भी होना चाहिए। ये इसका संदेश है।"

उन्होंने कहा, "इसमें बहुत मसाला है, इसलिए मैं चाहूंगा कि दर्शक इसे आकर देखें..इसमें हंसते-हंसते लेखक ने एक बेहतरीन संदेश दिया है।" यह पूछे जाने पर कि उनके लिए कॉमेडी करना कितना आसान रहता है, असरानी ने कहा, "मुझे तो 20-25 साल हो गए, मुझे लोगों ने कॉमेडी रोल दिए और मैं इसमें बिल्कुल सहज हूं तभी तो करता आ रहा हूं।"

पहले एक कॉमेडी कलाकारों की अपनी पहचान होती थी, फिल्मों में उनकी एंट्री होते ही लगता था कि अब कोई कॉमेडी सीन देखने को मिलेगा और आजकल हर कलाकार कॉमेडी करने लगा है तो क्या हास्य कलाकारों को काम मिलने में कोई दिक्कत तो नहीं आती? इस सवाल पर अभिनेता ने कहा, "दिक्कत की बात क्या..आजकल किसी कॉमेडियन के पास काम तो है ही नहीं। उसका कारण यह है कि हीरो कॉमेडी करता है, हीरोइन कॉमेडी करती है, हीरो विलेन भी बना हुआ है और हीरोइन वैम्प भी बनी हुई है, वे कॉमेडी भी करते हैं तो सारा काम हीरो-हीरोइन का ही है, कॉमेडियन का कोई काम ही नहीं है।" 

नाटक में प्रणव सचदेव असरानी के बेटे की भूमिका में हैं। प्रणव के साथ काम करने को उन्होंने बेहतरीन अनुभव बताया। वह उनके साथ 'क्या फैमिली है' नाटक में भी काम कर चुके हैं। असरानी ने कहा कि वह बहुत पेशेवर हैं और बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। 

असरानी आगे भी बेहतरीन काम करने की ख्वाहिश रखते हैं। उन्होंने कहा, "बहुत ख्वाहिशें हैं और किरदार हैं, 25 साल से हम करते आ रहे हैं। अच्छे-अच्छे निर्देशकों के साथ काम किया है और आगे भी करने की उम्मीद है। अच्छा रोल मिलेगा तो मैं करता रहूंगा।"

Tags:

दर्शकों,हंसाने-गुदगुदाने,नोएडा,गुड्डी','बावर्ची','अभिमान','शोले','यमला पगला दीवाना,असरानी

DEFENCE MONITOR

भारत डिफेंस कवच की नई हिन्दी पत्रिका ‘डिफेंस मॉनिटर’ का ताजा अंक ऊपर दर्शाया गया है। इसके पहले दस पन्ने आप मुफ्त देख सकते हैं। पूरी पत्रिका पढ़ने के लिए कुछ राशि का भुगतान करना होता है। पुराने अंक आप पूरी तरह फ्री पढ़ सकते हैं। पत्रिका के अंकों पर क्लिक करें और देखें। -संपादक

Contact Us: 011-66051627

E-mail: bdkavach@gmail.com

SIGN UP FOR OUR NEWSLETTER
NEWS & SPECIAL INSIDE !
Copyright 2018 Bharat Defence Kavach. All Rights Resevered.
Designed by : 4C Plus