Sunday 25 June 2017, 04:13 AM
जाधव को फांसी दी गई तो गंभीर परिणाम होंगे : भारत
By आईएएनएस | Bharat Defence Kavach | Publish Date: 4/11/2017 4:26:32 PM
जाधव को फांसी दी गई तो गंभीर परिणाम होंगे : भारत

नई दिल्लीभारत ने मंगलवार को पाकिस्तान को चेतावनी दी कि यदि पड़ोसी मुल्क में जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किए गए भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को सुनाई गई मौत की सजा पर अमल होता है तो इसके गंभीर परिणाम सामने आएंगे और द्विपक्षीय संबंध प्रभावित होंगे।

 

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में कहा, "भारत सरकार और यहां के लोग कानून, न्याय के बुनियादी नियमों और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों का उल्लंघन कर एक निर्दोष भारतीय को पाकिस्तान में मृत्युदंड दिए जाने की संभावना को बहुत ही गंभीरता से देखेंगे।"

सुषमा ने कहा कि भारत सरकार जाधव को बचाने के हर संभव तरीका अपनाएगी। उन्होंने कहा, "मैं पाकिस्तान सरकार को चेताते हुए कहना चाहती हूं कि वह इस बात पर विचार कर ले कि यदि मौत की सजा पर अमल हुआ तो इसके द्विपक्षीय संबंध पर कैसे असर होंगे।"

सुषमा ने कहा, "कुलभूषण जाधव द्वारा कुछ भी गलत करने का कोई सबूत नहीं हैं। वह एक साजिश का शिकार है जिसमें पाकिस्तान के जगजाहिर आतंकवाद समर्थक रिकार्ड से विश्व का ध्यान हटाकर भारत पर लांछन लगाने की कोशिश की गई है। हमारे पास सिवाय इसके कोई विकल्प नहीं है कि यदि इस सजा पर अमल होता है तो हम इसे सुनियोजित हत्या मानेंगे।"

राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने सरकार से एक वकील को नियुक्त करने की अपील की जो पाकिस्तान की सर्वोच्च अदालत में जाधव का केस लड़ सके। आजाद ने कहा, "यह पूरे देश का मामला है। मैं सरकार से पाकिस्तान की सर्वोच्च अदालत में जाधव का केस लड़ने के लिए एक वकील को नियुक्त करने का आग्रह करता हूं ताकि वह सर्वोच्च अदालत में केस जीत सके।"

सुषमा ने सदन को आश्वस्त किया कि सरकार पाकिस्तान के सर्वोच्च अदलात में अपील करेगी और 'देश के बेटे' को बचाने के लिए वहां के राष्ट्रपति के समक्ष याचिका देगी।सुषमा ने कहा, "सिर्फ सर्वोच्च अदालत में ही नहीं बल्कि हम उसे बचाने के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे। सर्वोच्च न्यायालय में अपील करना या उसके लिए वकील नियुक्त करना बहुत छोटी चीजें हैं। हम देश के बेटे को बचाने के लिए पाकिस्तान के राष्ट्रपति से भी संपर्क करेंगे।"

सदन में विपक्ष और सत्तापक्ष, दोनों के सदस्यों ने इस मुद्दे को उठाया और जाधव के प्रति एकजुटता दिखाई।पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद ने जावध को मृत्युदंड दिए जाने की पुष्टि की।समाजवादी पार्टी सांसद नरेश अग्रवाल ने यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि पाकिस्तान ने जाधव को मृत्युदंड का फैसला सुनाकर भारत को चुनौती दी है। अग्रवाल ने कहा कि भारत की पाकिस्तान नीति बहुत कमजोर है। यह देश के लिए एक चुनौती है।

पूर्व रक्षा मंत्री ए.के.एंटनी ने अग्रवाल की बात का समर्थन करते हुए इस मुद्दे को बहुत ही गंभीर बताते हुए कहा कि भारत को पाकिस्तान के समक्ष कड़े शब्दों में विरोध जताना चाहिए।

 

लोकसभा ने जाधव को मौत की सजा पर पाकिस्तान की निंदा की

 

नई दिल्ली: लोकसभा ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को मौत की सजा देने के पाकिस्तान के फैसले की मंगलवार को एकमत होकर निंदा की। लोकसभा सदस्यों ने सरकार से जाधव का जीवन बचाने के लिए हर कदम उठाने का आग्रह किया। प्रश्नकाल के समय मामले को उठाते हुए कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि यदि पाकिस्तान जाधव को फांसी देता है तो यह 'पूर्व-नियोजित हत्या' होगी। 

खड़गे ने कहा, "किसी को भी जाधव से मिलने की इजाजत नहीं दी गई। उसे यहां तक कि अपना मामला लड़ने के लिए वकील भी नहीं दिया गया। किसी भी अंतर्राष्ट्रीय नियम का पालन नहीं किया गया।"उन्होंने कहा, "यदि जाधव को फांसी होती है तो भारत के पास भी उसी तरीके से प्रतिकार करने का साहस होना चाहिए।"

खगड़े ने कहा, "सरकार को जाधव की रक्षा करने के लिए हर कदम उठाना चाहिए। यदि उन्हें बचाया नहीं जा सका तो यह एक कमजोर सरकार साबित होगी।"उन्होंने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिना किसी न्योते के पाकिस्तान जा सकते हैं, तो फिर जाधव के मुद्दे पर बात करने के लिए क्यों नहीं जा सकते?

संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने खगड़े पर इस मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप लगाया। कुमार ने कहा, "आप को इस मुद्दे पर निम्न स्तर की राजनीति नहीं करनी चाहिए।" भाजपा नेता निशिकांत दूबे ने मांग की कि सदन में पाकिस्तान को आतंकवादी राष्ट्र घोषित करने के लिए एक प्रस्ताव पारित किया जाए।

उन्होंने कहा कि भारत ने आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को मुश्किल में डाल दिया है और यही वजह है कि पड़ोसी देश भारतीय को अपमानित करने में जुटा है। एआईएमआईएम सदस्य असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, "भारत को जाधव को बचाने के लिए सब कुछ करना चाहिए। पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जाधव को बिना किसी सबूत के सजा सुना दी। भारत को उन्हें बचाने के लिए हर अंतर्राष्ट्रीय मंच का इस्तेमाल करना चाहिए।"

तृणमूल कांग्रेस नेता सौगत राय ने पाकिस्तान के कृत्य की निंदा की और इस मुद्दे पर भारत के पक्ष की प्रशंसा की।उन्होंने कहा, "भारत और भारतीयों के खिलाफ पाकिस्तान बदले की भावना से कार्रवाई कर रहा है। सरकार को जाधव का जीवन बचाने के लिए हर कदम उठाना चाहिए।"

बीजू जनता दल (बीजद) के बी.जी. पांडा ने कहा कि जाधव के मुद्दे पर भारत को विश्व न्यायालय और संयुक्त राष्ट्र से संपर्क करना चाहिए। उन्होंने कहा, "पाकिस्तान एक सामान्य देश नहीं है। यह सैन्य संस्थान द्वारा चलाया जाता है और इस तरह के कृत्यों से वे हमारे देश को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं।"

 

जाधव की रिहाई के लिए मोदी हस्तक्षेप करें : कांग्रेस

 

नई दिल्ली:  कांग्रेस ने पाकिस्तान में जासूसी के आरोपी भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के खिलाफ की गई कार्रवाई की निंदा करते हुए इसे 'जल्दबाजी में लिया गया पूर्व नियोजित फैसला' करार दिया। पार्टी ने मंगलवार को इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हस्तक्षेप की मांग की।

 

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, "भारत को जानकारी दिए बिना कुलभूषण जाधव के खिलाफ आनन-फानन में सुनाया गया पूर्वनियोजित फैसला पाकिस्तान की कंगारू अदालत की कार्यप्रणाली का प्रतीक है।"उन्होंने कहा कि सजा का ऐलान भारत को उकसाने वाला कृत्य है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार को इस मामले में ठोस कदम उठाने की जरूरत है।

उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री को जाधव की रिहाई के लिए हस्तक्षेप करना चाहिए। भारत को इस मुद्दे को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आक्रामक ढंग से उठाने की जरूरत है।"पाकिस्तान ने सोमवार को जाधव को मृत्युदंड का ऐलान किया, जिसके बाद भारत ने कड़े तेवर अख्तियार करते हुए कहा कि यदि उनकी मौत की सजा पर अमल होता है तो यह 'पूर्व नियोजित हत्या' होगी।

जाधव को 'पाकिस्तान में जासूसी और विध्वंसकारी गतिविधियों' के लिए मार्च 2016 में गिरफ्तार किया गया था।पाकिस्तान सेना की ओर से सोमवार को जारी बयान में कहा गया कि भारतीय नौसेना का अधिकारी जाधव देश की खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) से जुड़ा था, जो हुसैन मुबारक पटेल नाम भी इस्तेमाल करता था।

Tags:

कुलभूषण,जाधव,भारतीय,मौत,जासूसी,लोकसभा,निंदा,पाकिस्तान

DEFENCE MONITOR

भारत डिफेंस कवच की नई हिन्दी पत्रिका ‘डिफेंस मॉनिटर’ का ताजा अंक ऊपर दर्शाया गया है। इसके पहले दस पन्ने आप मुफ्त देख सकते हैं। पूरी पत्रिका पढ़ने के लिए कुछ राशि का भुगतान करना होता है। पुराने अंक आप पूरी तरह फ्री पढ़ सकते हैं। पत्रिका के अंकों पर क्लिक करें और देखें। -संपादक

Contact Us: 011-66051627, 22233002

E-mail: bdkavach@gmail.com

SIGN UP FOR OUR NEWSLETTER
NEWS & SPECIAL INSIDE !
Copyright 2016 Bharat Defence Kavach. All Rights Resevered.
Designed by : 4C Plus