रक्षा, राजनय, रणनीति, आंतरिक सुरक्षा, एयरोस्पेस, व नागरिक उड्डयन विषयों का पहला हिन्दी-इंग्लिश पोर्टल!
July 30, 2015
|English|हिन्दी
10 वर्षो में 1,303 को मृत्युदंड सुनाया, फांसी महज 3 को

14 अगस्त, 2004 को पश्चिम बंगाल के अलीपुर केंद्रीय कारागार में धनंजय चटर्जी को उसके 42वें जन्मदिन पर फांसी दी गई थी। उस पर एक किशोरी के साथ दुष्कर्म और उसकी हत्या करने का आरोप था।21 नवंबर, 2012 को मुहम्मद अजमल आमिर कसाब को फांसी दी गई, जो 2008 के मुंबई आतंकी हमले में शामिल एकमात्र जीवित आतंकवादी था।

मिसाइल मैन सैन्य सम्मान के साथ सुपुर्द-ए-खाक

देश के पूर्व राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम को यहां गुरुवार को पूरे सैन्य सम्मान के साथ सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया। उनकी अंतिम यात्रा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई अन्य गण्यमान्य नेता शरीक हुए।

ओबामा की अमेरिका निवेश की सूची में भारत अहम

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की अन्य देशों में अमेरिकी निवेश की सूची में भारत का अहम स्थान है। क्योंकि दुनियाभर में आर्थिक विकास ओबामा की प्राथमिकता है। व्हाइट हाउस द्वारा जारी किए गए बयान से यह जानकारी प्राप्त हुई।

ओ कमाल के कलाम, तुझे सलाम!

एक अजीम शख्सियत, कभी मिले बिना भी यूं लगा जैसे कोई अपना ऐसे कैसे चला गया। अधूरा मीठा सपना टूट गया। हर कोई हैरान, परेशान कैसे हुआ, क्यों हुआ! नियति के क्रूर हाथों को कलाम भी बेहद भाए, सच में बुरे सपने की तरह वो चौंका गए, सबके जागते हुए, देखते-देखते कुछ यूं चले गए, यकीन ही नहीं होता यह सपना है या वाक

सपनों में हकीकत का रंग भरने का नाम हैं कलाम

अवुल पकिर जैनुलाबद्दीन कलाम की शुरुआती जिंदगी कुछ अच्छी इसलिए नहीं रही कि उनकी पैदाईश एेसे परिवार में नहीं हुई जहां बच्चे चांदी के चम्मच से पैदा लेते हैं लेकिन देश के इतिहास में इस नागरिक का नाम जुड़ने से देश खुशहाल तो जरूर हुआ क्योंकि मिसाइल के दम दूसरे देशों पर आंखें तरेड़ने वाले देशों की आंख मे

  • Video Gallery
  • Close
फील्ड मार्शल मानेकशॉ
फील्ड मार्शल मानेकशॉ
ब्रिगे. होशियार सिंह
ब्रिगे. होशियार सिंह
फील्ड मार्शल मानेकशॉ
फील्ड मार्शल मानेकशॉ
एवीएम बी.के.बिश्नोई
एवीएम बी.के.बिश्नोई
ले.ज.सगत सिंह
ले.ज.सगत सिंह
एएम एच.सी.दिवान
एएम एच.सी.दिवान
ले.ज. जगजीत सिंह अरोड़ा
ले.ज. जगजीत सिंह अरोड़ा
एडमिरल एस.एम.नंदा
एडमिरल एस.एम.नंदा
ads
डिफेंस मॉनिटर   Viewed: 17207


भारत डिफेंस कवच की नई हिन्दी पत्रिका ‘डिफेंस मॉनिटर’ का ताजा अंक ऊपर दर्शाया गया है। इसके पहले दस पन्ने आप मुफ्त देख सकते हैं। पूरी पत्रिका पढ़ने के लिए कुछ राशि का भुगतान करना होता है। पुराने अंक आप पूरी तरह फ्री पढ़ सकते हैं। पत्रिका के अंकों पर क्लिक करें और देखें।-संपादक
सम्पर्क करें :-
011-22233002
editor@defencemonitor.in
Dr.
Dr. Avinash Chander DS & Chief Controller R&D
DRDO
DRDO Chief Dr.VK Saraswat
1971
1971 Indo-Pak War
Must
Must Watch Videos